Amazon-Buy the products

Saturday, June 13, 2015

मंजिल....


बहुत दूर जाना हैं अभी , अभी तो कदम उठाये हैं !
पता हैं रास्ते आसान नहीं होंगे, मगर इरादे पक्के हैं !!

न मानूँगा हार मंजिल से पहले , क्यूंकि पलट कर जाने का अब कोई इरादा नहीं हैं !
इम्तेहान अब मेरे हौंसले और मेरी मंजिल का हैं , बस अब आगे ही बढ़ते रहना हैं !!

1 comment:

  1. क्या बात है!!!!!! मंजिल तो मिल जाएगी एक न एक दिन

    ReplyDelete