Amazon-Buy the products

Monday, August 10, 2015

मेरा देश रो रहा हैं ………………


मेरा देश  रो रहा हैं क्यूंकि…………………………..
कश्मीर सुलग रहा हैं , गुजरात डूब रहा हैं !
पूर्व में नक्सल सिर उठा रहा हैं , मध्य में व्यापम घोटाला बलि ले रहा है !!
दक्षिण अलग राग अलाप रहा हैं , दिल्ली चुपचाप तमाशा देख रहा हैं !
दुश्मन घात लगा रहा हैं , बॉर्डर पर जवान गोली खा रहा हैं !!

मेरा देश  रो रहा हैं क्यूंकि ,
घर में  ही लड़ मर रहे हैं उसके नौनिहाल , नेता सारे मौज ले रहे हैं !
लोकतंत्र के पावन मंदिर "संसद" में रोज़ हंगामे हो रहे हैं !!
जवान देश की खातिर शहीद हो गया , उसकी किसी को परवाह नहीं हैं !
एक आतंकवादी को फाँसी क्यों दी , राष्ट्रीय चिंता का विषय हो गया हैं !!

मेरा देश  रो रहा हैं क्यूंकि ………………
सड़के बेहाल हैं , बिजली पानी का कोई ठिकाना नहीं !
तरस रहा हैं आम आदमी , नेताओ को फुर्सत नहीं !!
भड़काऊ भाषण , दूसरे को नीचा दिखाओ !
कुर्सी की खातिर - शतरंज का खेल चल रहा हैं !!

मेरा देश  रो रहा हैं क्यूंकि  ………………
नौजवानो की आशायें धूमिल हैं , कोई रास्ता सूझ नहीं रहा हैं !
माँ-बहनें घर से निकलते डर रही हैं , रावण राह ताक रहा हैं !!
नियम कानूनो की धज्जियां उड़ाने वालो की जय जयकार हो रही हैं !
देश को धर्म और  जाति में बांटने की हर संभव कोशिश हो रही हैं !!

मेरा देश  रो रहा हैं क्यूंकि  ………………
किसान आत्महत्या कर रहा हैं , मजदूर काम के लिए तरस रहा हैं !
चुने हुए सेवको में बंदरबांट चल रही हैं , भ्रस्टाचार देश को घुन की तरह खा रही हैं !!
कुछ लोग अपने स्वार्थ के लिए जनता को बहका रहे हैं !
जनता भी चंद पैसे के लिए खुद को बेच रही हैं !! 

मेरा देश  रो रहा हैं क्यूंकि  ………………
रक्षक अब  भक्षक हो गए हैं , कुछ पाखंडी संत हो गए हैं !
जनता गुमशुम हो गयी हैं , लाठियो से डर गयी हैं !!
देख कर हाल , जग हँसाई  हो रही हैं !
तरेर रहे हैं आँखे सब , क्यूंकि घर में ही मैंने मात खायी हैं !!

1 comment:

  1. वाकई में देश के नेताओं ने यह हाल कर दिया है कि देश रो रहा है आप ऐसे ही अपने शब्दों से देश के नागरिकों को जागृत करते रहिए।

    ReplyDelete