Amazon-Buy the products

Sunday, January 24, 2016

जय हो , गणतंत्र !

जय हो , गणतंत्र !


राजपथ  पर देखकर वैभव हर साल निहाल होता हूँ !
देश मेरा तरक्की पर हैं , हर बार सोच लेता हूँ !!

सैन्य शक्ति देखकर सीमाओ को सुरक्षित समझ लेता हूँ !
रंग बिरंगा राजपथ देखकर "देश मेरा एक हैं " जान लेता हूँ !!

यक्ष प्रश्न फिर भी हर रोज़ परिलक्षित होता हैं !
"सब कुछ ठीक हैं जब " मेरे देश में , फिर हर रोज़ हंगामा क्यों होता हैं ? !!

काश ! हम गणतंत्र को समझ पाते !
लाखो कुर्बानियो का महत्व जान पाते !!

गणतंत्र के पावन ग्रन्थ - संविधान को समझ पाते !
अधिकारों की  हर बार बात करने वाले कर्तव्यो को भी निभाते !!

६६ वर्ष बीत गए - हम कहाँ से कहाँ पहुँच गए ?
चले थे किस ओर हम , किस ओर पहुँच गए ?

जनता से , जनता द्वारा , जनता के लिए - जनसेवको को देश चलाना था  !
जनता को देश विकास में अपना हिस्सा निभाना था !!

धर्म , जात पात , ऊँच - नीच , अगड़ो - पिछडो का भेद मिटाना था !
भारत माँ के गौरव का रथ आगे बढ़ाना था !!

मुबारक हो गणतंत्र सबको  , एक और सरकारी छुट्टी आयी हैं !
देश को चलाने का ठेका नेताओ को देकर , हमने चैन की नींद पायी हैं !

जय हो , गणतंत्र ! जय हो , गणतंत्र ! जय हो , गणतंत्र !

4 comments:

  1. बहुत खूब आनंद जी.......जय हिंद

    ReplyDelete
  2. जय हो गणतंत्र । बहुत खूब जीजी जी।

    ReplyDelete
  3. जय हिंद जय भारत जय गणतंत्र दिवस
    आज के अवसर पर आपने बहुत खूबसूरत लिखा है1

    ReplyDelete
  4. Bht bhadiya Anand Ji..... Jai Hind Jai Bharat

    ReplyDelete