Amazon-Buy the products

Monday, February 1, 2016

हम कितने अच्छे थे , जब हम बच्चे थे

हम कितने अच्छे थे , जब हम बच्चे थे !
सुबह माता पिता के चरण छू कर स्कूल जाते थे !!
टीचर की मार खाकर भी मुस्कराते थे !!!

हम कितने अच्छे थे , जब हम बच्चे थे !
धर्म - जात -पात - ऊँच -नीच का फर्क नहीं समझते थे !!
इंटरवल में  अपना टिफ़िन दूसरे को देकर उसका टिफ़िन हम खाते थे !!!

हम कितने अच्छे थे , जब हम बच्चे थे !
एक पल झगड़ा करते थे , दूसरे पल कंधो में हाथ डाले स्कूल से निकलते थे !!
एक जैसे नारे - सारे एक साथ लगाते थे !!!

हम कितने अच्छे थे , जब हम बच्चे थे !
हर रोज़ एक प्रतिज्ञा "हम सब देशवासी भाई बहन हैं " दोहराते थे !!
सब त्यौहार - होली , दिवाली, क्रिसमस , ईद , गुरूपर्ब मिलकर मनाते थे !!!


हम कितने अच्छे थे , जब हम बच्चे थे !
दोस्तों के साथ कभी भी मंदिर - मस्जिद -गुरूद्वारे - चर्च चले जाते थे !!
हम भी जीसस - पैगम्बर - गुरु ग्रंथसाहब - शिव जी के आगे शीश नवाते थे !!!

हम कितने अच्छे थे , जब हम बच्चे थे !
कभी वो हमारी साइकिल में , कभी हम उनकी गाड़ियों में , कभी पैदल ही कहकहे लगाते थे !!
रोज़ हमारे फेवरेट हीरो हीरोइन - खेल खिलाडी बदलते थे !!!

हम कितने अच्छे थे , जब हम बच्चे थे !
झूठ बोलना पाप हैं , झूठ बोलने वालो से कुट्टी कर लेते थे !!
अपनी दुनिया में ही मगन रहते थे !!!

3 comments: