Amazon-Buy the products

Thursday, June 23, 2016

अाधुनिक कहकहे - भाग -४

गुस्से  को काबू मे रखिए , बोलते रखिए ध्यान !१!
गलती हो जाए तो मान लीजिए , नही घटेगा मान !२!
.........
हुनर बढ़ाते रहिए , तरकश मे  बढ़े  तीर !१!
जीवन  सफर का वही सच्चा वीर !२!
..........
सूरज छुप जाए बादलो मे , रात नही होती !१!
आ जाए थोड़ा परेशानी , ज़िंदगी बोझ नही होती !२!
..........
जीवन मंत्र यही हैं , धीरज रखिए साथ !१!
मौके न गवांये , खुले रखिए आंख और कान   !२!
.........
सोच सोच कर न कीजिए अपने दिमाग को परेशान !१!
कर्मो से अपने उठा दीजिए तूफान !२ !
..........
राजदार बनाये उसी को , जो बात पचा पाय !१!
वरना ढिढोरा पीटे , जग आप पर मुस्काय !२!
.......
जब छा जाए घनघोर निराशा , बात रखिए एक ध्यान !१!
खुशियाँ देने से पहले , भगवान ले रहा इम्तेहान !२!
.........
नौकरी कोई भी हो , सिद्दत से करिए काम !१!
बॉस से बना कर रखिए , नही तो काम तमाम !२!
.........
चुगलखोरो और झूठो से हरदम रहे सावधान !१!
अपने स्वार्थ के लिए कर सकते हैं ये परेशान !२!
..........
अतीत को सोचकर कोई फायदा नही , बीत गयी वो बात !१!
 भविष्य वक्त के गर्भ मे हैं , जी लीजिए बस आज !२!

..........

No comments:

Post a Comment