Amazon-Buy the products

Friday, July 15, 2016

बादल




आसमां के लुटेरे बादल - श्याम श्वेत ये बादल !
बरसते अपनी मनमर्जी से , उमड़ घुमड़ शोर करते बादल !!

अपने में समेटे बूँदों को , धरा को तरसाते बादल !
आँख मिचौली सूरज के साथ करते हैं ये बादल !!

बरसने से पहले खूब बचपना करते बादल !
नियति को मंजूर करने से पहले खूब अठखेलियां करते बादल !!

आज यहाँ , कल कहाँ - पूरी धरती का चक्कर लगाते ये बादल !
किसी के लिए वरदान , किसी के लिए सैलाब लाते ये बादल !! 

करने दो शैतानियाँ जरा , धरा में समाने के लिए ही जन्मे हैं ये बादल !
बारिश की बूँदे बनकर कितना कुछ दे जाते हैं ये बादल !! 

No comments:

Post a Comment