Amazon-Buy the products

Thursday, March 31, 2016

एक सन्देश ...................



मन में तसल्ली  और दिमाग में सुकून रखिये,
ईश्वर पर अटूट आस्था और दिल  में धैर्य रखिये !

जो हैं उसका मजा लीजिए , जो नहीं हैं उसके लिए प्रयत्न कीजिये ,
इच्छाओं की कोई थाह नहीं होती , इंद्रियों को थोड़ा काबू में रखिये !!

जो बीत गया उसके लिए गम मत कीजिये , जो है उसमे खुश रहना सीखिए ,
भविष्य अच्छा हो , अपना कर्म करते रहिये !

प्यार , स्नेह और मुस्कराहट फैलाते रहिये ,
अपनी तरफ से सबका अच्छा सोचते रहिये !!

सीखने  की ललक को बनाए रखिये ,
अपने स्वास्थ्य का अच्छा ख्याल रखिये !

भागदौड़ बहुत हैं ज़िन्दगी में - मगर दो चार पल अपने लिए दीजिये ,
अपनों को आपकी बहुत जरुरत हैं - रिश्तों में गर्माहट बनाए रखिये !!

अपने हौंसले के धनुष पर विश्वास के तीर चलाते रहिये ,
ज़िन्दगी ईश्वर का उपहार हैं आपको , जिंदादिली से भरपूर जीते रहिये !

करते रहिये कुछ काम ऐसे - ज़िन्दगी के नए पैमाने गढ़ जाइये ,

ज़िन्दगी की किताब में अपना  नाम भी दर्ज कीजिये!!

Sunday, March 20, 2016

होली हैं........................

फाल्गुन का महीना , मस्त हुई बयार !
डाल डाल टेसू खिले , रंगो से धरती का हुआ श्रंगार  !!

अबीर गुलाल लेकर हाथो में , सबको करो सरोबार !
भूल कर सब मनभेद , खुल कर खेलो होली इस बार !!

रंगो के इस त्यौहार में सब मतभेद उड़ा दो !
फाल्गुनी रंगो से सबके तन को रंग दो !!

होली के इस त्यौहार में , रंगो की हो बरसात !
बुरा न मानो होली हैं , हास्य की हो फुहार !!

राग छेड़ो प्रेम का , सद्भाव का बनाओ गुलाल !
मस्ती  का अबीर लेकर , कर दो सबको लाल !! 

Monday, March 7, 2016

नारी शक्ति



नारी शक्ति अपरम्पार , तुझसे ही जीवन आधार ! 
तू ही दुर्गा , तू ही काली - तेरे रूप हजार !!

तू शक्तिस्वरूपा , धैर्यमूर्ति , त्याग का हैं पर्याय !
प्यार की परिभाषा तुझसे , रिश्तो को देती हैं आयाम !! 

एक जीवन में कई जीवन जीती हैं एक नारी !
अपने दुःखो को भूलकर मुस्कराती हैं एक नारी !!

माँ रूप में जगतजननी , पत्नी रूप में पथ प्रदर्शक !
बहन रूप में स्नेह की छाया , बेटी रूप में कुल की इज्जत !!

शब्दों की अपनी सीमा हैं , तेरी महिमा उससे परे !
नारी को जो सम्मान न दे , उसका जीवन  नरक तले !!

नारी शक्ति अपरम्पार , तुझसे ही जीवन आधार ! 
तू ही दुर्गा , तू ही काली - तेरे रूप हजार !!  

Friday, March 4, 2016

एक प्रार्थना



हे ! बुद्धि , बल , विवेक के दाता , सबका जीवन सुखमय हो !
दूर हो सबके कष्ट , हर चेहरे पर मुस्कान हो !!

तेरी दया दृष्टि सब पर बनी रहे , हर जीवन उज्जवल हो !!
प्रेम , प्यार , स्नेह बना रहे ,मानवता की रक्षा हो !!

जो भटके हुए हैं राह से , उनका भी उद्धार हो !
द्वेष , लालच और हिंसा का समूल नाश हो !!

सबके जीवन में शांति रहे , कर्म की प्रधानता हो !

सबको फल मिले वांछित , इतना सबमे धैर्य हो !!

जीवन मूल्य  स्थापित हो , नैतिकता का क्षय हो !
जीवन तेरी अमूल्य निधि हैं , किसी का भी व्यर्थ हो !!

विश्वास बना रहे सबका तुझपर , आडम्बर कोई हो !
सब अपना लक्ष्य प्राप्त करे , हर जीवन की जय हो !!

Wednesday, March 2, 2016

जब जागो तब सवेरा



वक्त कभी अच्छा या बुरा नहीं होता हैं
वक्त तो बाहें खोले लुटने  को तैयार रहता हैं !!

कोई उसे खुल कर जी लेता हैं
कोई सिर्फ गुजार देता हैं !!

उम्र का हर पड़ाव कुछ करने को बेहतर होता हैं !
क्यूंकि जब जागो तभी सवेरा होता हैं !!

ज़िन्दगी आपकी हैं , आपसे बेहतर इसे कोई नहीं जानता !
खुल के जीइये  ज़िन्दगी को , भगवान ये मौका बार बार नहीं देता !!

ज़िन्दगी को अपनी सीधा और सरल रखिये !
बेफिजूल की चिन्ताओ से अपने को मुक्त करिये !!

कुछ पल खट्टे , कुछ पल मीठे आते रहेंगे !
कही थोड़ी आशा , कही निराशा के छुटमुट बादल छाते रहेंगे !!

मन को अपने मजबूत और तन को स्वस्थ रखिये !
एक लक्ष्य को पूरा करने के लिए अपने को समर्पित करिये !!

कभी देर हुई थी , अब देर हैं !
ज़िन्दगी के लिए फिर एक नया नजरिया पैदा कीजिये !!

ज़िन्दगी हैं तो ज़िंदा रहिये !
मन को हमेशा अपने, बच्चा रखिये  !!